Hindi Typing | Free Hindi Type | Easy Hindi Typing | Hindi Typing Test

Alt Code for Special Hindi Character 

Some Hindi Characters and Symbol are not available on the keyboard, they are typed by using special character code. The Code is a combination of ALT key like (ALT + 0197) and some numeric value. These Hindi Typing shortcut Keys are frequently used in during typing. Without learning them we can't complete the learning. Kruti Dev or DevLys Font Mangal Font and Remington/ typewriter Keyboard Hindi Key Code

Hindi Typing में use होने वाले Special Characters and Symbol के codes के बारे में बताऊंगा. कुछ special Characters Alt key के Combination से बनते है तो कुछ बिना ALT key codes के बिना भी बनते है. ये जो ALT key codes है वो Kruti Dev 010 और Devlys 010 दोनों fonts के लिए है.

Hindi Typing Symbol / Code with ALT Keys

Hindi Typing Code gk in hindi gk mirror
GK Mirror Hindi Typing Code SymbolHindi Typing ALT Symbol GK Mirror Website
Hindi Typing Code GK Mirror Com GK in Hindi WebsiteGK in Hindi - GK Mirror
General Knowledge in Hindi GK MirrorGK & Current Affairs Quiz in Hindi
Hindi Typing Code in Hindi GK Mirrorimportant hindi typing code gk mirror

What is Internet in Hindi – इंटरनेट क्या है – GKMirror.com

 

Internet एक दुसरे से जुड़े कई कंप्यूटरों का जाल है जो Router एवं Server के माध्यम से दुनिया के किसी भी Computer को आपस में जोड़ता है. दुसरे शब्दों में कहे तो Internet सूचना तकनीक की सबसे आधुनिक System है। Internet को आप विभिन्न Computer Network का एक विश्व स्तरीय समूह Network कह सकते है।  इस Network में हजारों और लाखो Computer एक दुसरे से जुड़े है। साधारणत: Computer को Telephone Line द्वारा Internet से जोड़ा (Connect) जाता है। लेकिन इसके अतिरिक्त बहुत भी बहुत से साधन है। जिसमे Computer Internet से जुड़ सकता है।

What is Internet in Hindi | Father of Internet | GK Mirror

सूचनाओ के आदान प्रदान  करने के लिए TCP/IP Protocol के माध्यम से दो Computer के बीच स्थापित सम्बन्ध को internet कहते हैं. इन्टरनेट विश्व का सबसे बड़ा नेटवर्क है.

Internet किसी एक Company या Government के अधीन नही होता है, अपितु इसमें बहुत से Server जुड़े हैं, जो अलग अलग संस्‍थाओं (Institution) या Private Company के होते हैं। कुछ प्रचलित Internet Service जैस gopher, file transfer protocol, World wide web (WWW) प्रयोग Internet मे जानकारीयॉं प्राप्‍त करने के लिए होता हैं।

इंटरनेट का उपयोग (Use of Internet)

  • संप्रेषण के लिए -To Communicate
  • खोजने के लिए – To Search Information
  • मनोरंजन के लिए – To Entertainment
  • खरीदी के लिए – To Shopping
  • शिक्षा के क्षेत्र में – In Education



  1. संप्रेषण के लिए -To Communicate

Internet का सबसे अधिक उपयोग हम एक दूसरे से सम्पर्क साधने (Contact) के लिए करते है. Internet के द्वारा हम कभी भी और कहीं भी शीघ्रता से अपने चाहने वालो को Message Send एवं Receive कर सकते है. Internet पर Message भेजने का एक तरीका E-mail है.

Example : Gmail, Facebook, Whatsapp etc.

  1. खोजने के लिए – To Search Information

Internet को विकसित ही इसलिए किया गया था. आज से पहले कभी भी इस प्रकार सूचनाए (Information) प्राप्त करना आसान नही था. लेकिन आज हम Internet के माध्यम से दुनिया (World) के किसी भी कोने से जानकारीयाँ (Information) प्राप्त कर सकते है और वो भी कुछ सैकण्डों में. हम दुनिया के हर कोने की खबर (News) घर बैठे अपने Computer पर ले सकते है. Internet में सूचनाए खोजने के लिए Search Engine (Google, Yahoo, Bing, Ask, Duck Duck Go, YouTube etc. का उपयोग किया जाता है.

  1. मनोरंजन के लिए – To Entertainment

Internet का उपयोग मनोरंजन (Entertainment) के साधन के रूप में किया जाता है. मनोरंजन (Entertainment) के क्षेत्र मे विकल्प असीमित है. इसके माध्यम से हम Movie/Films, Song, Video, MP3, Image/Picture आदि को देख तथा सुन सकते है. इसके अलावा हर वक्त का मनोरंजन Video Game कि दुनिया तो हमारे लिए हर वक्त खुली होती है.

  1. खरीदी के लिए – To Shopping

इसे ई-व्यापार (E-commerce) कहते है. Internet के माध्यम से बाजार (Market) को घर से ही देखा जा सकता है और अपना सामान खरीदा (Purchase) जा सकता है. हम Internet के द्वारा घर बैठे ही किस दुकान (Shop) पर कौन सा सामान है और कौन सा नही तथा उस सामान के ढेरो विकल्प (Option) एक साथ देखकर पसंद (Like) से अपना सामान खरीद सकते है. इसके अलावा Famous Fashion को जान सकते है.

  1. शिक्षा के क्षेत्र में – In Education

इसे E-learning (ई-शिक्षा) कहते है. यह क्षेत्र तेजी से बढ रहा है. आज Internet के माध्यम से हम घर बैठे ही अपने लिए मनपसंद College, School, Tutition, Coaching चुन सकते है. इसके अलावा हमारे पसंद के Course किस College में उपलब्ध है और उस Course के बारे में सारी जानकारी यथा Course Fee, Course Time आदि, यह जानकारी हम अपने Computer पर प्राप्त कर कर सकते है. आज E-Learning का क्षेत्र काफि विकसित हो चुका है. हम घर बैठे ही दुनिया के बेहतरीन Teacher से पढ सकते है.



Important Questions

  • Father of Internet -       Vint Cerf
  • Father of WWW  -         Tim Berners-Lee
  • Mother of Internet -      Radia Perlman

Full Form Related about Internet

  • IP : Internet Protocol
  • IPV4 : Internet Protocol Version 4
  • IPV6 : Internet Protocol Version 6
  • ISP : Internet Service Provider




  • HTTP : Hypertext Transfer Protocol
  • HTTPS : Hypertext Transfer Protocol Secure
  • HTML : Hypertext Markup Language

 

  • Wi-Fi : Wireless Fidelity
  • MODEM : Modulator Demodulator
  • URL : Uniform Resource Locator Or Universal Resource

 

  • LAN : Local Area Network
  • WLAN : Wireless Local Area Network




  • PHP : Hypertext Preprocessor
  • XML : Extensible Markup Language
  • CSS : Cascading Style Sheets
  • ASP : Active Server Pages
  • SQL : Structured Query Language

 

  • IT : Information Technology
  • NET : Internet
  • IP : Internet Protocol
  • AP : Access Point
  • DNS : Domain Name System




  • .COM : Commercial
  • .NET : Network
  • .ORG : Organization
  • .EDU : Educational
  • .GOVGovernmental
  • .INFO : Information
  • .BIZ : Business
  • .BD : Bangladesh
  • .US : United State
  • .UK : United Kingdom

 

कंप्यूटर का इतिहास (History of Computer in Hindi) हिंदी में GK Mirror

History and Development of Computer
(कंप्यूटर का इतिहास और विकास)

Abacus – 3000

Computer का इतिहास लगभग 3000 वर्ष पुराना है|  Abcaus का निर्माण लगभग 3000 वर्ष पूर्व चीन के वैज्ञानिकोँ ने किया था। एक आयताकार फ्रेम (Rectangular Frame)  में लोहे की छड़ोँ में लकडी की गोलियाँ लगी रहती थी जिनको ऊपर नीचे करके गणना या Calculation की जाती थी। यानी यह बिना बिजली के चलने वाला पहला Computer था वास्तव मेँ यह काम करने के लिए आपके हाथो पर ही निर्भर था।

Blase Pascal – 1642

अबेकस के बाद निर्माण हुआ Blase Pascal का. इसे गणित के विशेषज्ञ Blase Pascal ने सन् 1642 में बनाया यह अबेकस से अधिक गति से गणना करता था। ये पहला मैकेनिकल कैलकुलेटर (Mechanical Calculator) था। इस मशीन को एंडिंग मशीन (Adding Machine) कहते थे, क्योकि यह केवल जोड़ (Addition) या घटाव (Subtraction) कर सकती थी ।

Difference Engine - 1822

Difference Engine अंग्रेज गणितज्ञ Charles Babbage द्वारा बनाया यंत्र था जो सटीक (Accurate) तरीके से गणनायें (Calculation) कर सकता था,  इसका आविष्कार सन 1822 में किया गया था, इसमें Programe Storage के लिए के Panch Card का Use किया जाता था। यह भाप से चलता था, इसके आधार ही आज के Computer बनाये जा रहे हैं इसलिए Charles Babbage को कंप्यूटर का जनक (Father of Computer) कहते हैँ।

ENIAC - 1946

ENIAC का पूरा नाम (Electronic Numerical Integrator and Computer) है. यह First Generation Computer है. ENIAC दुनिया का पहला General Purpose Computer था. इसका अविष्कार J. Presper Eckert तथा John Mauchly ने Pennsylvania की University में किया था

ENIAC का वजन 30 टन था, जो कि 200 किलोवाट विधुत शक्ति (Electricity) का प्रयोग करता था. तथा यह 18,000 Vaccume Tube, 1500 Relays से बना था. तथा इसमें हजारों की संख्या में Resistors (प्रतिरोध), Capacitors, Inductors (प्रेरक) लगे हुए थे. यह 1800 वर्ग फीट जगह घेरता था. इसकी कीमत लगभग सवा 3 करोड़ रूपये थी.

ENIAC का सबसे पहला प्रयोग दूसरे विश्व युद्ध (2nd World Bar) में हाइड्रोजन बम के निर्माण हेतु उसकी कैलकुलेशन (Calculation) करने के लिए किया गया था.

बाद में इसका प्रयोग मौसम (Weather) का पूर्वानुमान, Cosmic-Ray के अध्ययन में, Random Number के अध्ययन में, तथा अन्य वैज्ञानिक कार्यों के लिए किया जाता है तथा इसका प्रयोग कठिन गणितीय परेशानियों को हल करने में, Engineering में तथा Physics की Problem को Slove करने में भी किया जाता था. परन्तु इसकी Speed बहुत ही धीमी (Slow) होने के कारण इसका प्रयोग करना बंद हो गया.

>> Generation of Computer in Hindi <<

Generation of Computer in Hindi | Computer Hindi Notes | GK Mirror

Generation of Computer (कंप्यूटर का पीढ़ी)

Generation of Computer in Hindi | Computer Generation in Hindi

1.  First Generation Computer (पहली पीढ़ी के कंप्यूटर) - Timeline - 1942-1955

इस Generation के कंप्यूटर में Vaccum Tube का प्रयोग किया जाता था, जिसकी वजह से इनका Size बहुत बडा होता था और Electric खपत भी बहुत अधिक होती थी। यह Vaccum Tube बहुत ज्यादा गर्मी पैदा करते थे। इन Computer में Operating System (Windows XP / 7)  नहीं होता था, इसमें चलाने वाले प्रोग्रामों को Panch Card में स्टोर करके रखा जाता था। इसमें Data Store करने की क्षमता बहुत सीमित होती थी। इन कंप्यूटरों में मशीनी भाषा (Machine language) का प्रयोग किया जाता था।

2.  Second Generation Computer (दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटर) -  Timeline - 1956-1963

Second Generation के Computer में Vaccum Tube की जगह Transistor ने ले ली। Transistor Vaccum Tube ट्यूब से काफी बेहतर था। इसके साथ Second Generation के Computer में Machine language के बजाय Assembly language का उपयोग किया जाने लगा.

3.  Third generation computer (तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर) - Timeline - 1964-1975

Third Generation के Computer में Transistor की जगह I.C. (Integrated Circuit) ने ले ली। और इस प्रकार Computer का Size बहुत छोटा हो गया, इन Computer की Speed Microsecond से Nanosecond तक की थी जो Scale Integrated Circuit के द्वारा संभव हो सका। यह कंम्यूटर छोटे, सस्ते बनने लगे और साथ ही उपयोग में भी Easy होते थे। इस Generation में High Level Language Pascal और Basic का विकास हुआ। लेकिन अभी भी बदलाव हो रहा था।

4.  Fourth generation computers (चौथी पीढ़ी के कंप्यूटर) - Timeline - 1967-1989

Chip तथा Microprocessor Fourth Generation के Computer में आने लगे थे, इससे Computer का आकार (size) कम हो गया और क्षमता (Capacity) बढ गयी। Magnetic Disk की जगह अर्धचालक मैमोरी (Semiconductor memory) ने ले ली साथ ही High Speed वाले Network का विकास हुआ जिन्हें आप LAN (Local Area Network) और WAN (Wireless Area Network) के नाम से जानते हैं। Operaing System के रूप में Users का परिचय पहली बार MS DOS (Microsoft Disk Operating System) से हुआ, साथ ही कुछ समय बाद Microsoft Windows भी Computer में आने लगी। जिसकी वजह से Multimedia का प्रचलन प्रारम्भ हुआ। इसी समय C Language का विकास हुआ, जिससे Programming करना सरल हुआ।

5.  Fifth generation computers (पांचवीं पीढ़ी के कंप्यूटर) - Timeline - 1989 से अब तक

Ultra Large-Scale Integration (ULSI), Optical Disk जैसी चीजों का प्रयोग इस Generation में किया जाने लगा, कम से कम जगह में अधिक Data Store किया जाने लगा। जिससे Portable PC, Desktop PC, Tablet आदि ने इस क्षेञ में क्रांति ला दी। Internet, E-mail, WWW (World Wide Web), का विकास हुआ। आपका परिचय Windows के नये रूपों से हुआ, जिसमें Windows - XP को भुलाया नहीं जा सकता है। Artificial Intelligence पर विकास अभी भी जारी है.

>> Introduction of Computer in Hindi <<

 

Computer Fundamentals Notes in Hindi | Computer Hindi Notes (DCA)

कंप्यूटर का परिचय (Introduction to Computers)

Computer शब्द English के "Compute" शब्द से बना है, जिसका अर्थ है "गणना", करना होता है इसीलिए इसे "गणक" या "संगणक" भी कहा जाता है, यह Data को Input के तौर पर लेता है उन्हें Process करता है और Output के तौर पर Result प्रदान करता है ।

Fundamental of Computer in Hindi | GK Mirror

आजकल Computer का use Document बनाने, Listening & Viewing Audio and Video, Play Games, Database Preparation के साथ-साथ और कई कामों में किया जा रहा है, जैसे Bank में, Institute में, Government Offices में, घरों में, Shop में, किया जा रहा है.

Computer केवल वह काम करता है जो हम उसे करने का कहते हैं यानी केवल वह उन Command को Follow करता है जो पहले से Computer में Upload होते हैं, उसके अंदर सोचने समझने की क्षमता (Capacity) नहीं होती है, Computer को जो व्यक्ति (Person) चलाता है उसे User कहते हैं, और जो व्‍यक्ति Computer के लिये Program बनाता है उसे Programmer कहा जाता है।

  • Father of Computer (कंप्यूटर का जनक)  Charles Babbage (चार्ल्स बैबेज)
  • First Programmer (पहला प्रोग्रामर)  Lady August / Lady Ada
  • Computer Day (कंप्यूटर दिवस)  -  2 December
  • Computer Meaning in Hindi  -  संगणक (SANGANAK)

Full Form of COMPUTER

Commonly Operated Machine Particularly Used in Technical and Educational Research

  • C - Commonly
  • O – Operated
  • M - Machine
  • P - Particularly
  • U - Used
  • T – Technical / Type
  • E – Educational / Everything
  • R – Research / Right

कम्प्यूटर की विशेषताएँ (Features of Computer)

  • यह तीव्र गति से कार्य करता है अर्थात समय की बचत होती है । (High Speed)
  • यह त्रुटिरहित कार्य करता है । (Accuracy)
  • यह स्थायी तथा विशाल भंडारण क्षमता की सुविधा देता है । (Storage Capacity)
  • स्वचलित (Automation)
  • विविधता (Versatility)
  • पुनरावृति (Repetition)

1.  तीव्र गति (High Speed) -

जहां आपको एक छोटी सी Calculation करने में समय लगता है वहीं Computer बडी से बडी Calculation सेकेण्‍ड से भी कम समय में कर लेता है, यह गति उसे Processor से प्रदान होती है Computer की गति को हर्ट्ज में मापा जाता है, कंप्यूटर के कार्य करने की तीव्रता प्रति Seconds, Miliseconds, Microseconds, Nanoseconds etc. में आंकी जाती है

2.  त्रुटिरहित (Accuracy) -

त्रुटि रहित कार्य करना यानि पूरी सटीकता (Accuracy) के साथ किसी काम का पूरा करना कंप्यूटर की दूसरी विशेषता है, Computer द्वारा कभी कोई गलती नहीं की जाती है, Computer हमेशा सही Result देता है, क्योंकि Computer तो हमारे द्वारा बनाये गए Programme द्वारा निर्दिष्ट निर्देश का पालन करके ही किसी कार्य को अंजाम देता है, Computer द्वारा दिया गया परिणाम गलत दिया जा रहा है तो उसके Programme में कोई गलती हो सकती है जो मानव द्वारा तैयार किये जाते हैं

3.  स्थायी तथा विशाल भंडारण क्षमता (Permanent Storage) :

Computer में प्रयुक्त Memory को Data, सूचना और निर्देशों के Permanent Storage के लिए प्रयोग किया जाता है। चूंकि Computer में सूचनाएं Electronics तरीके से Store की जाती है
Computer के External तथा Internal  संग्रहण माध्यमों (Hard Disk, Floppy Disk, CD, DVD, Pen Drive, ROM ) में असीमित डाटा और सूचनाओं का Store किया जा सकता है । Computer में कम स्थान घेरती सूचनाओं का Store किया जा सकता है। अतः इसकी Store Capacity विशाल और असीमित है।

4.  स्वचलित (Automation) -

Computer को एक के बाद एक Instruction देने पर जब तक कि कार्य पूरा नहीं हो जाता है वह स्वचलित (Automation) रूप से बिना रूके कार्य करता रहता है Example के लिये जब Computer से Printer को 100 Page Print करने की कंमाड दें तो पूरे 100 पेज प्रिंट करने बाद ही रूकेगा, इन कार्यो को करने के लिये Computer को निर्देश मिलते हैं वह उन्‍हीं के आधार पर उनको पूरा करता है यह निर्देश कंप्‍यूटर को प्रोग्राम/सॉफ्टवेयर के द्वारा मिलते हैं हर काम करने के लिये अगल Programe/Software होता है

5.  विविधता (Versatility) :

Computer की सहायता से विभिन्न प्रकार के कार्य संपन्न किये जा सकते हैं। Modern Computer में अलग-अलग तरह के कार्य एक साथ करने की क्षमता है।

6.  पुनरावृति (Repetition) :

Computer आदेश देकर एक ही तरह के कार्य बार-बार विश्वसनीयता और High Speed से कराये जा सकते हैं।

कम्प्यूटर के उपयोग (Use of Computer)

  • शिक्षा के क्षेत्र में (Education)
  • वैज्ञानिक अनुसंधान में (Scientific)
  • रेलवे तथा वायुयान आरक्षण में (Railway & Airlines)
  • बैंक में (Bank)
  • रक्षा में (Defence)
  • व्यापार में (Business)
  • संचार में (Communication)
  • मनोरंजन में (Entertainment)

कम्प्यूटर के कार्य (Work of Computer)

  1. डेटा संकलन (Data Collection)
  2. डेटा संचयन (Data Storage)
  3. डेटा संसाधन (Data Processing)
  4. डेटा निर्गमन (Data Output)

>> Generation of Computer in Hindi <<