कंप्यूटर का इतिहास और विकास | History of Computer | Computer Hindi Notes

History and Development of Computer
(कंप्यूटर का इतिहास और विकास)

Abacus – 3000

Computer का इतिहास लगभग 3000 वर्ष पुराना है|  Abcaus का निर्माण लगभग 3000 वर्ष पूर्व चीन के वैज्ञानिकोँ ने किया था। एक आयताकार फ्रेम (Rectangular Frame)  में लोहे की छड़ोँ में लकडी की गोलियाँ लगी रहती थी जिनको ऊपर नीचे करके गणना या Calculation की जाती थी। यानी यह बिना बिजली के चलने वाला पहला Computer था वास्तव मेँ यह काम करने के लिए आपके हाथो पर ही निर्भर था।

Blase Pascal – 1642

अबेकस के बाद निर्माण हुआ Blase Pascal का. इसे गणित के विशेषज्ञ Blase Pascal ने सन् 1642 में बनाया यह अबेकस से अधिक गति से गणना करता था। ये पहला मैकेनिकल कैलकुलेटर (Mechanical Calculator) था। इस मशीन को एंडिंग मशीन (Adding Machine) कहते थे, क्योकि यह केवल जोड़ (Addition) या घटाव (Subtraction) कर सकती थी ।

Difference Engine - 1822

Difference Engine अंग्रेज गणितज्ञ Charles Babbage द्वारा बनाया यंत्र था जो सटीक (Accurate) तरीके से गणनायें (Calculation) कर सकता था,  इसका आविष्कार सन 1822 में किया गया था, इसमें Programe Storage के लिए के Panch Card का Use किया जाता था। यह भाप से चलता था, इसके आधार ही आज के Computer बनाये जा रहे हैं इसलिए Charles Babbage को कंप्यूटर का जनक (Father of Computer) कहते हैँ।

ENIAC - 1946

ENIAC का पूरा नाम (Electronic Numerical Integrator and Computer) है. यह First Generation Computer है. ENIAC दुनिया का पहला General Purpose Computer था. इसका अविष्कार J. Presper Eckert तथा John Mauchly ने Pennsylvania की University में किया था

ENIAC का वजन 30 टन था, जो कि 200 किलोवाट विधुत शक्ति (Electricity) का प्रयोग करता था. तथा यह 18,000 Vaccume Tube, 1500 Relays से बना था. तथा इसमें हजारों की संख्या में Resistors (प्रतिरोध), Capacitors, Inductors (प्रेरक) लगे हुए थे. यह 1800 वर्ग फीट जगह घेरता था. इसकी कीमत लगभग सवा 3 करोड़ रूपये थी.

ENIAC का सबसे पहला प्रयोग दूसरे विश्व युद्ध (2nd World Bar) में हाइड्रोजन बम के निर्माण हेतु उसकी कैलकुलेशन (Calculation) करने के लिए किया गया था.

बाद में इसका प्रयोग मौसम (Weather) का पूर्वानुमान, Cosmic-Ray के अध्ययन में, Random Number के अध्ययन में, तथा अन्य वैज्ञानिक कार्यों के लिए किया जाता है तथा इसका प्रयोग कठिन गणितीय परेशानियों को हल करने में, Engineering में तथा Physics की Problem को Slove करने में भी किया जाता था. परन्तु इसकी Speed बहुत ही धीमी (Slow) होने के कारण इसका प्रयोग करना बंद हो गया.

>> Generation of Computer in Hindi <<

कंप्यूटर की पीढियां | Generation of Computer | Computer Hindi Notes | GK Mirror

Generation of Computer (कंप्यूटर का पीढ़ी)

Generation of Computer in Hindi | Computer Generation in Hindi

1.  First Generation Computer (पहली पीढ़ी के कंप्यूटर) - Timeline - 1942-1955

इस Generation के कंप्यूटर में Vaccum Tube का प्रयोग किया जाता था, जिसकी वजह से इनका Size बहुत बडा होता था और Electric खपत भी बहुत अधिक होती थी। यह Vaccum Tube बहुत ज्यादा गर्मी पैदा करते थे। इन Computer में Operating System (Windows XP / 7)  नहीं होता था, इसमें चलाने वाले प्रोग्रामों को Panch Card में स्टोर करके रखा जाता था। इसमें Data Store करने की क्षमता बहुत सीमित होती थी। इन कंप्यूटरों में मशीनी भाषा (Machine language) का प्रयोग किया जाता था।

2.  Second Generation Computer (दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटर) -  Timeline - 1956-1963

Second Generation के Computer में Vaccum Tube की जगह Transistor ने ले ली। Transistor Vaccum Tube ट्यूब से काफी बेहतर था। इसके साथ Second Generation के Computer में Machine language के बजाय Assembly language का उपयोग किया जाने लगा.

3.  Third generation computer (तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर) - Timeline - 1964-1975

Third Generation के Computer में Transistor की जगह I.C. (Integrated Circuit) ने ले ली। और इस प्रकार Computer का Size बहुत छोटा हो गया, इन Computer की Speed Microsecond से Nanosecond तक की थी जो Scale Integrated Circuit के द्वारा संभव हो सका। यह कंम्यूटर छोटे, सस्ते बनने लगे और साथ ही उपयोग में भी Easy होते थे। इस Generation में High Level Language Pascal और Basic का विकास हुआ। लेकिन अभी भी बदलाव हो रहा था।

4.  Fourth generation computers (चौथी पीढ़ी के कंप्यूटर) - Timeline - 1967-1989

Chip तथा Microprocessor Fourth Generation के Computer में आने लगे थे, इससे Computer का आकार (size) कम हो गया और क्षमता (Capacity) बढ गयी। Magnetic Disk की जगह अर्धचालक मैमोरी (Semiconductor memory) ने ले ली साथ ही High Speed वाले Network का विकास हुआ जिन्हें आप LAN (Local Area Network) और WAN (Wireless Area Network) के नाम से जानते हैं। Operaing System के रूप में Users का परिचय पहली बार MS DOS (Microsoft Disk Operating System) से हुआ, साथ ही कुछ समय बाद Microsoft Windows भी Computer में आने लगी। जिसकी वजह से Multimedia का प्रचलन प्रारम्भ हुआ। इसी समय C Language का विकास हुआ, जिससे Programming करना सरल हुआ।

5.  Fifth generation computers (पांचवीं पीढ़ी के कंप्यूटर) - Timeline - 1989 से अब तक

Ultra Large-Scale Integration (ULSI), Optical Disk जैसी चीजों का प्रयोग इस Generation में किया जाने लगा, कम से कम जगह में अधिक Data Store किया जाने लगा। जिससे Portable PC, Desktop PC, Tablet आदि ने इस क्षेञ में क्रांति ला दी। Internet, E-mail, WWW (World Wide Web), का विकास हुआ। आपका परिचय Windows के नये रूपों से हुआ, जिसमें Windows - XP को भुलाया नहीं जा सकता है। Artificial Intelligence पर विकास अभी भी जारी है.

>> Introduction of Computer in Hindi <<